वेब होस्टिंग पैकेज या प्लान कैसे चुने ?

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Last Updated on

How to choose web hosting package?

वेब होस्टिंग पैकेज लेने से पहले कुछ महत्वपूर्ण बातो पर गौर करना चाहिए | ताकि जो भी पैकेज आप लेंगे वह आपकी जरूरत को पूरा करता हो | इसलिए आपको निन्लिखित पॉइंट्स नोट कर लेना चाहिए ताकि आपकी जरूरत का पता चल सके |

  1. कितना होस्टिंग स्पेस की जरूरत है ?: यह महत्वपूर्ण है की आपको अपनी वेबसाइट को होस्ट करने के लिए कितने स्पेस की जरुरत है | इसको आप एसे कैलकुलेट कर सकते है की आपकी टोटल वेब पेज और डेटाबेस मिलाकर कितना स्पेस बन रहा है | छोटी वेबसाइट के लिए 1GB तक का स्पेस काफी होता है |  लकिन यदि आपके पास हाई क्वालिटी विडियो और इमेजेज वाला कंटेंट है तो आपको स्पेस ज्यदा की जरूरत होती है | अपने कंप्यूटर में विडियो, इमेजेज, टेक्स्ट का टोटल स्पेस को माप ले | अगर आपकी वेबसाइट यूजर से डाटा लेने वाली है तो आपको ज्यादा स्पेस लेना होगा | क्युकी यूजर जब वेबसाइट डाटा अपलोड करेगा तो आपका स्पेस कम होता जायेगा | बड़े डेटाबेस वाली वेबसाइट को ज्यदा होस्टिंग स्पेस की जरुरत होती है | होस्टिंग प्रोवाइडर्स होस्टिंग स्पेस अनलिमिटेड भी करवा रही है लेकिन आपको ध्यान रखना चाहिए की आप नामिंत होस्ट चुने नही तो आपकी वेबसाइट जब ज्यदा स्पेस लेगी तो बंद भी हो सकती है | जिससे आपको नुकसान हो सकता है | आप होस्टिंग को नामित कंपनी से ले सकते है जिनके नाम हमने लिस्ट किये है |
  2. कितनी ट्रैफिक की जरूरत होती है ? : ट्रैफिक /बैंडविड्थ यह सुनिश्चित करता है की आपकी वेबसाइट के डाटा को कितने यूजर देख सकते है | इसको हम कैलकुलेट कर सकते है की मान लीजिये हम महीने में 100000 views/visitors चाहते है और हमारी वेबसाइट का एवरेज पेज साइज़ 100 kb है | तो हमे 1000000 *100 =10,000000kb (10GB) ट्रैफिक /बैंडविड्थ की जरूरत होगी | आपको ट्रैफिक को होस्टिंग स्पेस कम से कम 10 गुणा रखना चाहिए है | उदहारण के लिए यदि स्पके होस्टिंग स्पेस 1gb है तो ट्रैफिक को 10gb रख सकते है | हालाँकि यह सही पैमाना नही है | अगर आपके visitors ज्यादा है तो आप इसको बढ़ा सकते है | सबसे बढ़िया मेथड यह है की आप एवरेज वेबसाइट पेज साइज़ को जितने visitors की जरूरत है उससे गुणा कर लो | यह सही पैमाना हो सकता है | यह ध्यान रहना चाहिए की यदि आपकी बैंडविड्थ कम होगी तो आपकी वेबसाइट बंद हो जाएगी |
  3. Hosting Platform: वेब होस्टिंग पैकेज लेने से पहले यह सुनिश्चित करना होगा की आपको होस्टिंग किस प्लाफोर्म पर चाहिए | होस्टिंग मुख्य रूप से दो प्लेटफार्म पर उपलव्ध है | पहली Linux hosting और दूसरी windows होस्टिंग | सबसे ज्यादा पोपुलर Linux होस्टिंग है | लेकिन अगर आप विंडोज based बेक एंड लैंग्वेज का प्रयोग कर रहे है तो आपको विंडोज based होस्टिंग पैकेज लेना चाहिए |
  4. ईमेल एकाउंट्स (Email Accounts): यह सुनिश्चित कर लीजिये जो होस्टिंग पैकेज आप लेने जा रहे है उसमे कितने ईमेल एकाउंट्स मिलते है | क्या वोह आपकी जरूरत के हिसाब से है की नही |
  5. FTP users: होस्टिंग प्लान्स में कितने ftp users मिलते है |
  6. डेटाबेस: होस्टिंग पैकेज लेने से पहले यह भी जान ले की आपको कितने डेटाबेस की जरूरत है |
  7. Sub-domains: यह भी जान लेना चाहिए की यदि आप sub domains का प्रयोग करना चाहते है तो आपको देखना चाहिए की कितने sub domains आप बना सकते है?
  8. कितनी वेबसाइट को होस्ट करेगा : होस्टिंग पैकेज लेने से पहले यह जान लो की क्या आप एक से ज्यदा डोमेन होस्ट करना चाहते है ? यदि आपको एक से ज्यदा डोमेन होस्ट करने है तो आपको होस्ट से पूछना होगा की कितने डोमेन होस्ट कर सकते है |
  9. लेटेस्ट टेक्नोलॉजी/versions: आपके होस्टिंग पैकेज में यह भी जाँच लेना चाहिए की क्या आपको जो टेक्नोलॉजी की जरूरत है या उनके लेटेस्ट version उपलव्ध है की नही ? उदहारण के लिए आपको php का लेटेस्ट version की जरूरत है तो आपको होस्ट से पता करना चाहिए की कौन सा version उनके पास उपलव्ध है |
  10. CMS एप्लीकेशन इंस्टालेशन आप्शन: अगर आप अपनी वेबसाइट को CMS based एप्लीकेशन से बनाना चाहते है तो आपको यह पता क्र लेना चाहिए की क्या होस्ट के पास वह सारे एप्लीकेशन उपलव्ध है की नही | आजकल सभी होस्ट cms based एप्लीकेशन उपलव्ध करवाता है | उदहारण के लिए अगर आपको ब्लॉग बनाना है और उसको आप वर्डप्रेस पर काम करना चाहते है तो आपको वर्ड प्रेस CMS लेना होगा | आज की डेट तक 125 से ज्यदा CMS बेस्ड एप्लीकेशन Linux होस्टिंग में उपलव्ध है | WordPress, Drupal, BBPress etc.
  11. SSL सर्टिफिकेट: डाटा को सिक्योर बनाने के लिए SSL सर्टिफिकेट लेना होता है ताकि आपका डाटा हैक ना हो पायें और आपकी आपके कस्टमर्स का डाटा सेफ रहे| यह जान लो की ssl सर्टिफिकेट होस्ट के पास उपलव्ध है की नही |
  12. कंट्रोल पैनल : आपको यह सुनिश्चित करना होगा की आपका होस्ट आपको कौन सा कंट्रोल पैनल दे रहा है जिससे आप होस्टिंग अकाउंट को मैनेज कर पाएंगे | लिनक्स में cPanel बहुत पापुलर है और विंडोज में Plesk कंट्रोल पैनल अच्छा है |
  13. होस्टिंग uptime: यह सबसे महत्वपूर्ण होता है | जहाँ आपकी वेबसाइट होस्ट है वोहन का नेटवर्क कितने समय तक ऑनलाइन रहता है  ताकि आपकी वेबसाइट डाउन ना रहे है | नेटवर्क uptime 99.99% होना चाहिए |
  14. कस्टमर सपोर्ट : सेल के बाद का सपोर्ट बहुत मायने रखता है ताकि आपको सही समय पर हेल्प मिल सके और आपका इशू का सलूशन मिल जाये | cheap hosting में सपोर्ट की समस्या रहती है | इसलिए आपको यह निर्णय लेना चाहिए की कोण का होस्ट सपोर्ट अच्छा देता है |
  15. कास्ट : आपको अपने बजट के अनुसार होस्टिंग पैकेज लेना चाहिए शुरू में आप छोटा पैकेज ले सकते है और बाद में अपग्रेड किया जा सकता है |
208

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Add a Comment

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *